Uncategorized

ऋतिक, पीसी, ऋचा, फरहान और अन्य सेलेब्स स्लैम परफ्यूम विज्ञापन महिलाओं के बलात्कार के डर का मजाक उड़ाते हैं


महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों की उच्च दर के कारण महिला समुदाय पहले से ही बहुत पीड़ित है और ऐसे में फिल्म निर्माताओं, विज्ञापन निर्माताओं और टीवी शो निर्माताओं का यह कर्तव्य है कि वे इस तरह का कोई भी प्रकार का निर्माण न करें। ऐसी सामग्री जो महिलाओं के खिलाफ अपराध को बढ़ावा देती है।

इस तथ्य से कोई इंकार नहीं है कि टीवी विज्ञापन किसी उत्पाद को लोकप्रिय बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और इसकी बिक्री बढ़ाने में भी मदद करते हैं, लेकिन विज्ञापन निर्माताओं को यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि वे ऐसे विज्ञापन बनाने से बचें जो अपराध को हल्के तरीके से भी बढ़ावा देते हैं।

हाल ही में, एक परफ्यूम ब्रांड ने दो विज्ञापन लॉन्च किए जिसमें पुरुष मॉडलों को महिला मॉडलों के सामने बलात्कार/सामूहिक बलात्कार का सुझाव देने वाली दोहरी अर्थ वाली भाषा का उपयोग करते हुए दिखाया गया था। विज्ञापन निर्माताओं ने भले ही युवाओं को आकर्षित करने के लिए चुटीली भाषा का इस्तेमाल किया हो, लेकिन अंतत: उन्होंने महिला समुदाय का अपमान किया है।

सबसे पहले, विज्ञापन देखें:

यहां क्लिक करें सीधे ट्विटर पर वीडियो देखने के लिए

यहां क्लिक करें सीधे ट्विटर पर वीडियो देखने के लिए:

विज्ञापन लॉन्च होने के तुरंत बाद उनके खिलाफ भारी बवाल मच गया। सूचना और प्रसारण मंत्रालय भी हरकत में आया और यूट्यूब और ट्विटर को सोशल मीडिया नेटवर्क पर शेयर किए जा रहे अपमानजनक विज्ञापनों को हटाने का आदेश दिया।

आम जनता ही नहीं बल्कि बॉलीवुड सेलेब्स जैसे ऋतिक रोशन, प्रियंका चोपड़ा, ऋचा चड्ढा, फरहान अख्तर, सोना महापात्रा आदि ने भी इन विज्ञापनों के निर्माताओं को फटकार लगाई और उनमें से कुछ ने तो यह भी मांग की कि जिस विज्ञापन एजेंसी ने उन्हें बनाया है, उसे बनाया जाना चाहिए। इसके लिए मुकदमा किया।

प्रियंका चोपड़ा:

फरहान अख्तर:

सोना महापात्रा:

ऋचा चड्ढा:

स्वरा भास्कर:

हृथिक रोशन:

जैसे ही मामला बदसूरत हो गया, कल परफ्यूम ब्रांड लेयर्स शॉट ने ट्विटर पर लिया और इस संबंध में माफी जारी की:

बलात्कार भारत सरकार और राज्य सरकारों के लिए गंभीर चिंताओं में से एक है और इस तथ्य के बावजूद कि इस अपराध का मुकाबला करने के लिए बहुत कुछ किया गया है, अभी भी बहुत कुछ करना बाकी है लेकिन इस तरह के विज्ञापन स्थिति को और खराब कर देंगे। विज्ञापन एजेंसियों को विज्ञापन बनाते समय बहुत सावधान रहना चाहिए और हमेशा यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे किसी भी लिंग, जाति, धर्म, रंग आदि से संबंधित किसी भी व्यक्ति की भावनाओं को आहत न करें।

इन विज्ञापनों के संबंध में आपकी क्या राय है? अपने विचार हमारे साथ साझा करें।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *